बुधवार, 3 मार्च 2010

अलिखित...

लिखने

और कुछ न लिखने

के बीच

फर्क सिर्फ

कह देने

और

न कह देने सा है

कुछ

जो सोचा गया

कभी

कहा नहीं गया

कुछ

जो मन में चला

कभी

लिखा नहीं गया

कुछ

सोच कर भी

अनकहा रहा

कुछ

जान कर भी

अलिखित है

आज तक....

2 टिप्‍पणियां:

  1. जो कुछ भी अलिखित है वह अवचेतन मे एकत्रित रहता है और समय आने पर ही बाहर आता है वह भी सायास ।

    उत्तर देंहटाएं

काल चक्र

हिन्दी फोनेटिक कुंजी पटल

देवनागरी