सोमवार, 31 दिसंबर 2012

बलात्कार का प्रशिक्षण












वो अक्सर बाज़ार से लौटते हुए


कहते थे मुझसे 
क्या लड़की जैसे चलते हो 
दो झोले उठाने में 
थक जाते हो तुम

जब कभी किसी गाने पर
मैं नादान
हिला कर कमर
लगता था नाचने
तब अक्सर कहते थे
चारपाई पर खांसते बुज़ुर्ग वो
ये क्या लड़कियों सा
लगते हो नाचने

खाना बनाने के मेरे शौक पर
मां को
अक्सर आ जाती थी
तेज़ हंसी
कहती थी वो
लड़की पैदा हो गई है घर में
खुश रहेगी बीवी तुमसे

क्रिकेट खेलते हुए
जब भी वो देखता था मुझे
खेलते हुए लंगड़ी टांग
लड़की-लड़की कह कर
चिढ़ाता था
मेरा बड़ा भाई

स्कूल में भी
जब नहीं कर पाता था
मैं नाटे कद का
कमज़ोर सा लड़का
उस मोटे तगड़े साथी से
लड़ाई
लड़की सा होने का ही
मिलता था ताना

रक्षाबंधन के दिन
स्कूल के टीचर
ज़बरन बंधवाते थे राखी
उसी सलोनी से
जिसे देख कर लगता था
बेहद अच्छा
अलग अलग रखी जाती थी
लड़कियों और लड़कों की कक्षा
अलग अलग थे गाने
अलग अलग खेल भी

कच्चे आम तोड़ कर
काले नमक के साथ खाना
छुप कर ही होता था
देख लेती थीं तो
छेड़ती थी भाभियां
कि क्या भैया
आपको तो लड़कियों वाले ही
शौक हैं सब

दाढ़ी बनाने के ब्लेड
खरीदते रहे हम
देख कर लड़कियां
चड्ढियों के भी होर्डिंग पर
दिखती थी
लड़की ही बस
टूथपेस्ट दांतों में लगाने का
मक़सद भी एक ही था
वही जो था
खास खुशबू पसीने से तर
बगलों में छिड़कने का
हाल ही में कहा किसी ने
क्यों रगड़ते हो
लड़कियों वाली क्रीम

और फिर जब
दोस्तों ने मेले, बस और
सड़क पर भी
लड़कियों को न घूरने के लिए
कहा कि
तू तो लड़की है बिल्कुल यार

बस वो सब
घर से लेकर
सड़क तक
उस अनजान
सुनसान
आसान पल के लिए
कर चुके थे पूरा
मेरा प्रशिक्षण
मैं तैयार
बलात्कारी बन चुका
बस साब
एक मौके की तलाश थी....

वो कहते थे कि
मेरी बहन को
पढ़ना चाहिए उस स्कूल में
जहां जाती हैं
सिर्फ लड़कियां
उसके लिए
घर पर नहीं आने चाहिए
लड़कों के फ़ोन
उसकी दोस्ती भी क्यों थी
लड़कों से
जब वो जाती है
लड़कियों के स्कूल

बूढ़े बाबा
जो खुद उठते थे
मेरी मां के सहारे से
डांटते थे अक्सर
मेरी बहन को
कि क्या लड़कों के साथ
खेलती है तू
और फैलाए रहती है
हर वक़्त ही किताबें
हंसती है क्यों
ज़ोर ज़ोर से
जा रसोई में
मदद करो मां की
सीखो कुछ घर के काम
लड़कियां ऐसे अच्छी नहीं लगती

दादी मां को
अक्सर रात टोंका करती थी
कैसी कतरनी सी
चलती है तेरी ज़ुबान
हर बात का जवाब
देती है तुरंत
डांट खाती है
किसी रोज़ मार भी खाएगी
सही हुआ पड़ा तेरे
ज़ोर का तमाचा
ससुर के सामने
आदमी से लड़ा रही थी
ज़ुबान
औरत को इतना गुस्सा
ठीक नहीं है...

मां अक्सर
रात को रोती हुई
आती थी बिस्तर पर
पिता जी को
नहीं देखा था
कभी भी ऐसे रोते छिप कर
मां को आंसू भी
छिप कर बहाने पड़ते थे
अमूमन बहन भी
धीरे धीरे
ऐसे ही रोने की
हो गई थी आदी
चाची, भाभी और कभी कभी
दादी भी

स्कूल में
अक्सर लड़कियों की
पीठ सहलाते थे
गणित वाले वो टीचर
गर्दन के पास
रख कर हाथ
हिंदी वाले मास्साब
समझाया करते थे
विद्यापति का
साहित्य में योगदान
भौतिकी के सर
कई बार अश्लील मज़ाक करते थे
रसायन शास्त्र वाली
मैडम के साथ
वो हंसती थीं खिसियानी हंसी
पीटी की टीचर को देख
हंसते रहते थे
कमीनगी से वो दो
इंस्पेक्शन वाले मास्टर

टीवी पर अक्सर
महिलाओं की मदद के लिए
आगे आ जाते थे
फिल्म निर्देशक
जिनकी हर फिल्म में
ज़रूरी था
एक आईटम नम्बर
नौकरानी पर घर में अक्सर
मुग्ध हो कर मुस्कुराते थे
कभी कभी उसकी
खिसकी साड़ी के पल्लू को
निहारते रहते थे वो मामा हमारे
मुंहबोले चाचा न जाने क्यों
मेरी बहन को करते थे
कुछ ज़्यादा ही लाड़
और हां बड़े भाई का वो दोस्त
अक्सर दे जाता था
अखबार का कवर चढ़ी
न जाने कौन सी ज़रूरी किताबें

हां मेले में
बचता था मैं भीड़ से
लेकिन मेरे बड़े भाई
और कहते थे चाचा भी
कि मेले का मज़ा तो
भीड़ में ही है
अस्पताल में डॉक्टर के
होने पर भी
मरीज़ का हाल
उस कुंवारी नर्स से ही लेते थे
मेरे घर के कई मर्द

और हां याद होगा ही
कहते रहते थे वो अक्सर
औरतों के हाथ में गया जो घर
उसको होना ही है बर्बाद
है न याद...
और फिर मर्द होना ही है
शक्ति का पर्याय
शक्ति अपराजित, असीमित
अराजक

दफ्तर में
झाड़ू लगाने वाली
उस चार बच्चों की मां से लेकर
अपनी महिला सहकर्मियों तक
सबसे करता रहा मैं
छेड़खानी
अपनी मातहतों से
करता रहा मैं
फ्रैंडली जेस्चर
न होने की शिकायत
और वो सीधी सी लड़की
याद तो होगी ही न
जिसके प्रमोशन पर फैलाई थी मैंने
उसके बास के साथ
सोने की अफ़वाह...

और फिर सड़कों पर
अक्सर मैं घूरता था
लड़कियों को
देखता था
उनके शारीरिक सौष्ठव को
देह को देख
करता रहा हर रोज़
आंखों से ही
उनका न जाने कितनी बार
बलात्कार
और चूंकि दुस्साहसी होना
प्रमाण था
उसके पौरुष का
मैं करता रहा कभी
शब्द बेधी वार
कभी नयन सुख के उपचार
कभी छेड़खानी
और बसों, मेट्रो, रेल में
अक्सर शामिल हो जाता था
उनको घेर कर
उनके तन से लिपट कर
जगह जगह डसने वाले
सर्पों के झुंड में

देखिए न
घर से बाहर तक
बलात्कार करने का
मेरा प्रशिक्षण कितना पक्का था
हां अब घूमता था
रात को झुंड में कभी सड़कों पर
तो कभी अकेले
शिकार की खोज में
जानता ही था मैं
समाज और परिवार मेरे साथ है
तो इनसे ही उपजे
पुलिस, कानून और सरकार
क्या बिगाड़ लेंगे मेरा...

शुक्रवार, 20 जुलाई 2012

यशवंत की गलती है लेकिन संपादक जी आपकी मंशा क्या है?



यशवंत सिंह मामले में तीन पक्ष हैं, तीन में से सबसे पहला पक्ष है उनका जो ये मानते हैं कि यशवंत ने जो कुछ किया गलत किया लेकिन उसके बदले में जो कुछ किया वो गलत ही नहीं बल्कि आपराधिक होने की अतिरेकता है। दूसरा पक्ष है जो ये मानता है कि यशवंत ने कुछ गलत किया ही नहीं और तीसरा पक्ष है जो ये मानता है कि इससे फर्क नहीं पड़ता कि क्या अनैतिक और गलत हुआ, यशवंत के साथ ऐसा ही होना चाहिए। चलिए बात करते हैं इन तीन पक्षों की और यशवंत की, जिन्हें इन तीनों ही बातों से ज़्यादा फ़र्क नहीं पड़ता।
सबसे पहले बात कि यशवंत का कृत्य किस श्रेणी में आता है, तो ये डॉ नूतन ठाकुर के लेख में साफ है कि यशवंत नशे में एक अलग शख्स है, जो बिल्कुल सोचना नहीं चाहता...बिल्कुल उत्श्रृंखल और दरअसल इसी पर लगाम लगाने की सबसे ज़्यादा ज़रूरत है। लेकिन क्या यशवंत ने जो एसएमएस और फोन कॉल्स देर रात एक आदरणीय महामाननीय और देश के सबसे सरोकारी सम्पादक को किए वो ठीक थे। साफ कहना चाहूंगा कि किसी को भी उसकी मर्ज़ी के खिलाफ फोन करना और एसएमएस करना सौ फीसदी गलत है, और किसी को इरादतन नशे में या होश में परेशान करना और भी ज़्यादा गलत है। यशवंत सिंह ने निस्संदेह कोई अश्लील एसएमएस नहीं किया पर अगर किया और जो साफ है तो ये सौ फीसदी गलत था। न केवल देर रात किसी की पत्नी को फोन करना गलत है बल्कि उस पर अकड़ते हुए एसएमएस करना और भी अनैतिक। लेकिन सवाल ये है कि यशवंत सिंह ने जो पैसे मांगे वो क्यों मांगे...एसएमएस का मजमून साफ कर रहा है कि ये एक शरारत थी। लेकिन हां किसी के भी जीवन में खलल डालने का हक किसी को नहीं, इसलिए यशवंत की ये गलती ज़रूर है  पर दूसरे पक्ष की प्रतिक्रिया के तरीके से उसकी मंशा पर सवाल उठने लाजिमी हैं।
लेकिन दरअसल इसकी प्रतिक्रिया में जो हुआ, वो ठीक है? दरअसल इस वक्त ज़्यादा मौजू सवाल यही है, क्योंकि इस घटना की परिघटना के तौर पर प्रबुद्ध और प्रतापी एलियन छाप सम्पादक जी की जो प्रतिक्रिया सामने आई वो अतिरेक का दूसरा नाम थी। आप में से कितने लोग ये मान सकते हैं कि लाख बुराईयां होने के बाद क्या यशवंत इतने मूर्ख हैं कि वो एक चैनल के सम्पादक(जिसके तमाम राजनैतिक-आर्थिक-सामाजिक-असामाजिक संबंध हों) को बीच सड़क मोटरसाइकिल से उसकी कार रोक कर, उस से रंगदारी वसूलने की मांग दिन दहाड़े करेंगे। ज़ाहिर है कि एफआईआर फ़र्ज़ी है, जिसे सम्पादक जी ने एक इंटरव्यू में स्वीकारा भी था। क्या यशवंत सिंह पर जो धाराएं लगा दी गईं, वो फ़र्ज़ी नहीं है? क्या जिस तरह ये गिरफ्तारी हुई वो ठीक है? दरअसल पुलिस के जिस आपराधिक तरीके से फर्ज़ी एफआईआर दर्ज करने से लेकर फर्ज़ी एनकाउंटर तक जाने के तरीकों का तमाम पत्रकार चैनलों और अखबारों में विरोध करते रहे हैं, ये सम्पादक जी उसी तरीके से अपनी दुश्मनी निकाल रहे हैं।
अब खैर आगे की बात मैं अपने आप को उस श्रेणी में रखता हूं जो ये मानती है कि यशवंत ने निस्संदेह वो एसएमएस कर के गलत किया लेकिन जो प्रतिक्रिया में किया गया, वो अतिरंजित था और आपराधिक भी। खैर आगे की ओर आते हैं, बात करते हैं मामले के तार्किक पहलू की, दरअसल यशवंत के खिलाफ जिस तरह के केस दर्ज करवाए गए, उसको लेकर किसी को भी शक नहीं है कि वो मामले प्रथम दृष्टया फ़र्ज़ी हैं और साथ ही जिस तरह यशवंत की गिरफ्तारी हुई वो और चौंकाने वाला मामला है। ज़ाहिर है कि इसका जवाब ज़िले के कप्तान साहब के पास होगा और निकट भविष्य में उनको वो जवाब देना भी पड़ेगा। क्या अगर कोई शख्स आपको लम्बे समय से परेशान कर रहा है तो एक टीवी चैनल के सम्पादक के नाते आपके लिए उसको समझाना या पुलिस के पास जाना भी कोई मुश्किल काम था और सबसे बड़ी बात क्या जब आप पुलिस की मदद लेंगे तो असल शिकायत की जगह गलत और बेहद संगीन धाराएं लगवाएंगे? तो फिर आप कैसे अपनी मंशा को दुनिया के सामने रखेंगे, वो तो इन फर्ज़ी धाराओं से ही जगज़ाहिर हो जाएगी।
मामला एक और तरह से समझिए कि दरअसल ये पूरा तौर तरीका यशवंत सिंह की गलती को तो सामने लेकर आता ही है, लेकिन उससे कहीं ज़्यादा इन माननीय सम्पादक जी की प्रवृत्ति को सामने लेकर आता है। पता नहीं आप क्या मानते हैं लेकिन किसी के भी खिलाफ गलत एफआईआर दर्ज कराने और झूठे आरोप लगा कर उसका नुकसान करने की कोशिश को भारतीय संविधान और कानून संज्ञेय अपराध मानता है, एसएमएस भेजने और फोन कर के परेशान करने से ज़्यादा संज्ञेय। भारतीय दंड विधान यानी कि IPC के तहत धारा 211 और 182 के तहत इस तरह की झूठी एफआईआर कराने वाले के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है। यही नहीं इसमें दोष सिद्ध होने पर 6 महीने से 7 साल और कुछ मामलों में आजीवन कारावास भी हो सकता है। ज़ाहिर है एफआईआर करवाने वाले की प्रवृत्ति और नीयत आपराधिक है और अगर नहीं है तो अभी भी वक्त है, गलती का अहसास कर के बेवजह की गई शिकायतें वापस ली जा सकती हैं। हालांकि कप्तान साहब के लिए ये कितना बुरा होगा, वो खुद महसूस कर पाएंगे कुछ दिनों में, उन्होंने वर्दी पहन के कानून तोड़ने में मदद जो की है।
साफ है कि यशवंत की गलती ज़रूर है लेकिन फर्ज़ी केस करने के बाद ज़्यादा बड़ी गलती सम्पादक महोदय और उनको सहयोग करने वाले पुलिस वालों की है। मज़े की बात ये है कि ये ही सम्पादक अपने चैनलों पर किसी भी तरह के फ़र्ज़ी केस और एनकाउंटर पर दोषियों को सज़ा की मांग करते हैं। अब जब सम्पादक ही ऐसे करे, तो क्या उसे आपराधिक प्रवृत्ति का न माना जाए? यहां पर ये ध्यान में रखना होगा कि यशवंत सिंह ने शराब के नशे में जो कुछ किया वो निंदनीय है और आप चाहें तो उसे क्षमा न करें पर क्या किसी की गाड़ी में खरोंच मार देने पर कत्ल की धारा लगा कर फांसी दी जा सकती है? बड़ा अहम सवाल ये है कि अगर रसूखदार लोग अपने सामर्थ्य और पहुंच के हिसाब से कानून का दुरुपयोग करते रहेंगे तो कैसी दुनिया बनेगी ये?
यहां पर एक सवाल आता है उन सारे लोगों के लिए जो ये मानते हैं कि यशवंत के साथ जो किया गया अच्छा किया गया, आप सब ज़रा खुले दिमाग से सोच कर बताएं कि क्या अगर आपके साथ ऐसा ही कोई करे तो वो अच्छा होगा। क्योंकि सब कुछ व्यक्तिगत झगड़े में किया गया, तो आप सबका भी किसी न किसी के साथ निजी झगड़ा होगा ही, ऐसे में अगर कोई आप पर हत्या के प्रयास, अपहरण-रंगदारी की कोशिश के आरोप लगा के फर्ज़ी एफआईआर करवा दे तो क्या आप इसे सही कहेंगे। यहां ये ज़िक्र करना ज़रूरी है कि ऐसा समर्थन करने वाले ज़्यादातर लोग किसी न किसी तरीके से यशवंत से चिढ़ते हैं या भड़ास से डरते हैं। क्यों डरते हैं ये बताना बिल्कुल ज़रूरी नहीं है...लेकिन यशवंत से कितना भी असहमत होने के बावजूद कैसे आप किसी के ऊपर लगे गलत आरोपों के आधार पर फर्ज़ी केस बनाने का समर्थन कर सकते हैं?
लेकिन एक तीसरा पक्ष भी है और ये वो लोग हैं जो बजाय यशवंत के रवैये को लेकर संजीदा होने और सोचने के, बार बार उनका अंधा पक्ष ले रहे हैं। हमें ये मानना पड़ेगा कि नशा करना गलत नहीं लेकिन उसके नशे में लोगों की ज़िंदगी में खलल डालना गलत है। वादी सम्पादक जी कैसे भी व्यक्ति हैं, उनकी मर्ज़ी के बिना उनको एसएमएस या फोन कॉल नीति के विरुद्ध है। इसलिए हम सब मिल कर ये कोशिश करें कि यशवंत जब लौटें, तो अपनी इस समस्या से निजात पाएं।
यशवंत सिंह को लेकर शायद अब तक का सबसे संजीदा लेख रहा नूतन ठाकुर का, जिसमें न केवल एक भाई के तौर पर यशवंत को शराब के नशे में बेसुध होने की हद तक डूब जाने की डांट भी मिली तो यशवंत नाम के सिक्के के दो पहलुओं पर बात भी हुई। जो मैंने लिखा हो सकता है कुछ लोगों को ये कुछ जगह यशवंत के खिलाफ भी लगे। लेकिन जो लगता है उसे ही कहना सबसे महत्वपूर्ण है। हालांकि हां लेख खत्म करते वक्त माननीय सम्पादक जी के लिए एक सवाल छोड़ जाता हूं, कि क्यों न आपके खिलाफ फर्ज़ी एफआईआर और केस के लिए 182 और 211 के तहत मामला दर्ज हो, और साथ ही आपके टीवी चैनल के कार्यक्रमों के द्वारा ब्रॉडकास्ट नियमों के उल्लंघन का मामला जिसमें अंधविश्वास फैलाना, किसी की छवि खराब करना और लोगों को डरा के माहौल बिगाड़ने की कोशिश (तमाम भूत प्रेत, नाग नागिन मार्का कार्यक्रम जो कभी उस चैनल ने चलाए, 2012 में दुनिया का खत्म होना और एक सम्प्रदाय के धर्मगुरु को आतंकी दिखा देना...जिसके पीछे इन्हीं सम्पादक जी की ज़िम्मेदारी क्यों न मानी जाए) के लिए 295 ए जैसी धाराओं में मामला दर्ज करवा दिया जाए। क्या कहते हैं सम्पादक जी, यशवंत ने जो किया वो छोटा अपराध था तो आपने इतना कुछ कर दिया, आप पर तो सारी सच्ची धाराएं लगेंगी, क्या कहते हैं...क्या विचार है? सोचिएगा और समझिएगा कि रसूख आज है, कल नहीं रहेगा, समझ और संवेदनशीलता ही आगे काम आएगी...लोक व्यवहार काम आएगा...और हां लोगों का प्यार काम आएगा, जो आप कमा नहीं पाए...बेचारे...
मयंक

शुक्रवार, 13 जुलाई 2012

तुम बहुत दिनों तक बनी दीप कुटिया की...



नैतिकता के नामर्द सिपाहियों को गौर से देख लीजिए
चलती सड़क, देश के "व्यस्त शहरों" में से एक, आस पास मौजूद पढ़े लिखे ज़िम्मेदार "नौजवानों की फौज" और फ़िर भी नोच फेंके गए उसके शर्म, लज्जा और लिहाज के गहने. वही गहने जो उसकी माँ ने पैदा होते ही तन पर पहले कपडे के साथ उसे पहना दिए. और आज उसके कपड़ों और गहनों के साथ-साथ उतर गया उसकी आँखों पर पड़ा वो चश्मा जिससे वो देखती थी हर पुरुष को अपने रक्षक के रूप में. वो चीख रही थी कि "मेरी इज्ज़त ख़राब मत करो, तुम्हारे घर में भी बहन है" लेकिन उसके वो "ज़िम्मेदार रक्षक" बन गए थे “नैतिकता के कर्णधार”, जो उसे सज़ा दे रहे थे उसके "अनैतिक कर्मों" की.

चिंता मत कीजिये मैं आपको नहीं याद दिलाउंगी वो सारी ऐसी घटनाएं जो इस वाकये से पहले भी न जाने कितनी बार दोहराई जा चुकी हैं, क्यूंकि जब आप वो सब भूल ही चुके हैं तो ये घटना भी आपके मस्तिष्क में ज्यादा दिन के लिए नहीं टिकने वाली. बदलते समाचार चैनलों की रफ़्तार टिकी हुई थी के कौन सा चैनल दिखा रहा था वो विडियो. अजी ग़लत मत समझिएगा दरअसल हम तो जानने की कोशिश कर रहे हैं के असल में हुआ क्या था, क्यूंकि बिना सब कुछ जाने हम कैसे कह दें के उन "नैतिकता के कर्णधारों" ने कुछ ग़लत किया. हो सकता है गलती उस लड़की की रही हो.
अरे माना के भारतीय समाज पुरुष-प्रधान समाज है लेकिन उसका भी तो ठोस कारण है, अब आप भी जानते ही हैं के पुरुष ज्यादा मज़बूत होते हैं, वही तो हैं जो इन अबलाओं की, कभी भाई, कभी पिता, कभी पुत्र और परिवार के मुखिया के तौर पर, रक्षा करता है. ये तो इन औरतों की आदत है, कुछ ज़रा सी बात हुई नहीं के रोना, चीखना, चिल्लाना शुरू. ये तो, ये भी नहीं समझती कि इनके हाथ में परिवार की इज्ज़त है, इनका बस चले तो सारे खानदान की नाक कटवा कर रखे दें. अब आप ही बताइए ऐसी औरतों के हाथों में सारे निर्णय छोड़ हम क्या घर संभालना शुरू कर दें?? अजी पूरी सृष्टि उथल-पुथल हो जाएगी!!

वैसे आपमें से कई लोगों ने उस पूरे हादसे की विडियो फुटेज न जाने कितनी मर्तबा देखी होगी, क्या एक पल को भी आपको ये ख्याल आया, के क्या होता अगर उस लड़की की जगह आपकी अपनी बहन, बेटी, पत्नी या घर की कोई भी स्त्री होती? क्या तब भी आप सिर्फ उस विडियो फुटेज को बार बार रिफ्रेश करके देखते? अरे कोई बात नहीं, मैं जानती हूँ के आपके पास मेरे इस सवाल का जवाब है ही नहीं, क्यूंकि दुर्भाग्यवश अगर वो आपके घर की कोई महिला होती तो इस समय आप इस लेख को पढने की हालत में ही न होते, और अब जब आप पढ़ ही रहे हैं तो दिमाग के किसी कोने में यही रट रहे होंगे कि क्या ज़रूरत थी उस लड़की को किसी पब में जाने की और वो भी देर रात, उसको तो उसके कर्मों की सज़ा मिल ही गई, हमारे घर कि औरतें तो कभी ऐसा न करें और अगर करें तो बागपत के उस गाँव की तरह हमारे घर पर भी बैठेगी एक खाप, और बन जायेंगे उनके आचरण के लिए नियम और कानून.

अगर आप ये सोच रहे हैं के मैं किस पक्ष की ओर से लिख रही हूँ तो कृपया इस लेख को यहीं पढ़ना बंद कर दें क्यूंकि अगर आप अभी तक समझ नहीं पाए तो कहीं न कहीं मुझे आपसे भी घृणा होगी. बचपन से आज तक पुरुषों के इस आचरण से मुझे घोर आपत्ति रही है, मौका मिला नहीं के किसी भी महिला की शारीरिक संरचना को भंग करने से नहीं चूकते, चाहे बात उन हाथों की हो जो बस मौका तलाशते हैं उस घृणा की भावना को प्रगाड़ करने की, या वो नज़रें जो मानो एक निगाह में ही आपका मानसिक बालात्कार कर दे. जो महिलाएं इस लेख को पढ़ रही हैं वो समझ सकती हैं के मेरा इशारा किस ओर है, और पुरुषों से बेहतर तो मेरी इस बात को कोई समझ ही नहीं सकता, आख़िरकार "मज़ा पाने" वाली तरफ तो आप या आप ही के साथी मौजूद होते है. कहने को घर के मुखिया एक महिला के बगैर अपने जीवन और परिवार की कल्पना तक न कर सकने वाले वो सब पुरुष भूल जाते हैं की चाहे वो पुरुष हो या महिला सबके जीवन का पहला पायदान एक ही था, बस एक गुणसूत्र की फेरबदल ने आपका लिंग निर्धारित कर दिया और हो गए आप "महाराजा"!!

मेरी हिम्मत नहीं हुई उस विडियो को दोबारा देखने की, क्यूंकि एक बार में उसने मुझे इस हद्द तक कचोट दिया के अगर दोबारा देख लेती तो रात के इस पहर सड़कों पर तमाम पुरुषों को गालियाँ देते हुए अकेले ही एक मोर्चे पर निकल पड़ती और यकीन मानिए अगर आप इस सोच में हैं के मेरा हश्र भी वैसा हो सकता है तो अब समय आ गया है के खुल कर दो-दो हाथ हो ही जाएँ. अभद्र भाषा और अश्लील आचरण पर अपना एक छत्र राज समझने वाले ये न भूलें के उन्हें उनके पैरों से घुटनों पर लाने के लिए मुझे ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ेगी, एक बात की जगह एक लात ही काफी होगी. लद गए शब्दों, उपदेशों, वाद-विवाद, और जिरह के दिन, बस एक बात दिमाग में बिठा लीजिये के "लातों के भूत बातों से नहीं मानते".

मानसिक और शारीरिक उत्पीड़न से त्रस्त ज़्यादातर महिलाएं समझौतों पर टिकी ज़िन्दगी जीती हैं, फ़िर तमाम उम्र पहले ख़ुद और बाद में अपनी बेटियों को उस आग में झोंक देती है. इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना को लगभग सभी प्रमुख समाचार चैनलों ने दिखाया, मैं बस इतना जानना चाहूंगी के कब तक आपके सरोकार सिर्फ खबर को दिखाने तक सिमट कर रहेंगे? मानवाधिकार आयोग कब तक केवल चीखता चिल्लाता रहेगा? वो पुलिस जो अभी भी आँखें, कान और मूंह बंद करके बैठी है, कब भूलेगी की गाँधी जी का समय बीत चूका है? और तो और आप लोग जो शायद इस लेख को इसकी आखिरी पंक्ति तक पढ़ें, आपकी आत्मा कब जागेगी???

















इला जोशी 
(लेखिका एक मल्टीनेशनल में बिज़नेस मैनेजमेंट प्रोफेश्नल हैं और स्वतंत्र लेखन और कविता करती हैं)

गुरुवार, 31 मई 2012

मुस्काती है एक औरत....

चित्र - साभार - 'द हिंदू'(24 दिसम्बर, 2011)
एक औरत मुस्कुराती है, 
दूसरी अनजान औरत को देख कर 
बना देती है जगह, 
उसके बैठने को 
थाम लेती है उसका असबाब,
सम्भाल लेती है
उसका बच्चा

एक पुरुष
दूसरे पुरुष को घूरता है
एक पुरुष कुहनी मारता है
दूसरे पुरुष को
देख कर एक औरत को
एक पुरुष झगड़ता है
दूसरे पुरुष से
देता है भद्दी भद्दी गालियां
उसके घर की औरतों को
एक पुरुष दूसरे पुरुष को
कहता है
जानता है तू मैं कौन हूं

एक औरत प्रेम करती है
एक पुरुष से
एक औरत लुटा देती है
सब कुछ दो पुरुषों पर
पति पर, बेटे पर
एक औरत को सताते हैं
हमेशा उसके पुरुष
एक औरत को लूटते हैं
अपने ही पुरुष
एक औरत फिर भी
भरोसा करती है
पुरुषों पर
एक औरत सहम जाती है
अनजान पुरुषों के बीच

एक पुरुष हंसता है
एक औरत से धोखा कर के
एक पुरुष घूरता है
एक औरत को
एक पुरुष दबाता है
कुचलना ही चाहता है
एक औरत को
एक पुरुष मानता है मूर्ख
एक औरत को
एक पुरुष समझता है
इंसान और औरत को अलग अलग चीज़
एक पुरुष का पौरूष
बढ़ जाता है
रौंद कर एक औरत को

एक पुरुष कहता है
दूसरे पुरुष से
दबा के रखो अपनी औरत को
एक पुरुष मानता है
अपने दबंग दोस्त को सच्चा पुरुष
एक पुरुष शिकायत करता है
दूसरे पुरुष से
अपनी औरत की
एक पुरुष बना देता है
एक औरत को मशीन
एक पुरुष चाहता है
एक औरत से अच्छा खाना
अच्छा सेक्स और आज्ञाकारी बच्चे
एक पुरुष कम ही चाहता है
एक औरत को

एक औरत समझती है
दूसरी औरत को
एक औरत जानती है एक से हैं
हर औरत के हालात
एक औरत को है हमदर्दी
हर दूसरी औरत से
एक औरत आज फिर
पिट कर आई होगी अपने पुरुष से
एक औरत घर जाकर
बनाएगी उसी पुरुष के लिए खाना
पालेगी उसके ही बच्चे
संभालेगी उस का घर
इसीलिए वो बांट लेती है
दर्द दूसरी औरत का
इसीलिए एक औरत मुस्कुराती है
दूसरी अनजान औरत को देख कर
बना देती है जगह,
उसके बैठने को
थाम लेती है उसका असबाब,
सम्भाल लेती है
उसका बच्चा.....

***************************
मयंक सक्सेना
30 मई 2012, 10.50 रात

शनिवार, 28 अप्रैल 2012

सुबह अब मेरे दर पे आती नहीं है...

तेरी ये उदासी जो जाती नहीं है 
मेरे दर पर अब सुबह आती नहीं है 

किताबें मेरी धूल में सन गई हैं 
वो आंखों को चेहरा दिखाती नहीं हैं 

चांद आया था घर, ताक पर रख दिया है 
कि अब धूप आंगन में आती नहीं है

तेरी आंख में एक कहानी छिपी है 
मगर तेरी बोली बताती नहीं है

तेरी ज़ुल्फ़ में मेरी किस्मत फंसी है
लटों को क्यूं रुख से हटाती नहीं है

उसे क्या हुआ है, क्या मुझसे ख़फ़ा है
मुझे देख वो मुस्कुराती नहीं है

ये नारे उछालो हवा में संभल के
हुकूमत को हरकत ये भाती नहीं है

ग़ज़लगोई अब नामुनासिब हुई है
कि अब सुबह बुलबुल भी गाती नहीं है

नज़ारों को भूला, बियाबां में भटका
मगर याद ज़ेहन से जाती नहीं है

मयंक अब समझ जाओ, बदलेगा न कुछ
जो खल्क ए खुदा, कसमसाती नहीं है

सोमवार, 20 फ़रवरी 2012

नीली साड़ी...सपना...और तुम


जब ढलने लगे रात

पौ फटने से पहले

आ जाया करो

तुम

मेरे सपनों में

पहन वही नीली साड़ी

जिसके किनारे लटकता था

एक रेशमी धागा

और उससे जड़ा

एक नीला नग

और हां

उस दिन की ही मानिंद

खोल कर आना

अपने काले बाल

उनकी खुशबू बिखरती है

खुले होने पर

आ जाना

मेरे सपनों में

मेरे सोने पर

वो नीला रंग

जैसे हो

सुरमई नदी कोई

नीले पानी से भरी

जैसे कोई फूल

उस अंग्रेज़ी नाम वाले

देसी जंगली पौधे का

हां वही

कॉर्नफ्लावर

जैसे हो आसमान

उस खुली

बिन बादल

दोपहर का

नीला...सपाट...अनंत

और उसी वक्त

तुम मेरी आंखों में

आंचल अपना

लहरा जाना

मेरे सपनों में

आ जाना

छूकर अपनी आंखों से

मेरी आंखों को

दे दो

मुझे

रोशनी

बिखेर दो काजल

थोड़ा सा

मेरी भी पलकों के

कोरों पर

थोड़ा सा संगीत

बहा दो

अपनी सांसों का

मेरी धड़कन के

शोरों पर

आज ही

आ जाओ

आओ कि

मेरे सपने

बेकाबू हैं

बेसब्र हैं

बेताब हैं

कि आओ तुम इनमें

और

फिर कभी

नींद ही न आए...

मयंक सक्सेना

21-02-2012 (1.10 रात)

सोमवार, 13 फ़रवरी 2012

आप सभी से इसका जवाब चाहिए...


ये एक चिट्ठी है, एक चिट्ठी जो शायद आप में से कुछ को सच्ची लगे और हिलाए भी...कुछ को शायद ये चिट्ठी नकली लगे, नाटक लगे, प्रोपेगेंडा लगे...कुछ को ये पढ़ कर भरोसा ही न हो..और कुछ की आंखें खुलें...पर यकीन मानिए कि ये सच है और सरकारें इस सच को जानती हैं, क्योंकि ये उन्ही का बोया हुआ सच है, उन्हीं का बनाया हुआ सच है...एक महिला की लड़ाई हम सब लड़ ज़रूर रहे हैं, लेकिन हमारी लड़ाई कुछ भी हासिल कर पाने में अब तक असफल रही है या फिर इसका हासिल लम्बे वक्त में मिलेगा...पर हां सोनी सोरी को सलाम है, सलाम है इरोम शर्मिला को...जो हमारी लड़ाई बिना ये सोचे लड़ रही हैं, कि हासिल क्या होगा...शायद ये ही उनका हासिल है कि हम उनको सलाम करते रहें...और अपनी अक्षमताओं पर शर्मिंदा होते रहें...सोनी सोरी की चिट्ठी आप सब के लिए...

-मयंक सक्सेना


प सब सामाजिक कार्यकर्ताओं, बुद्धिजीवी संगठन, मानवाधिकार महिला आयोग, देशवासियों से एक आदिवासी पीड़ित लाचार एक आदिवासी महिला अपने ऊपर हुए अत्याचारों का जवाब मांग रही है और जानना चाहती है कि

मुझे करंट शॉट देने, मुझे कपड़े उतार कर नंगा करने या मेरे गुप्तांगों में बेदर्दी के साथ कंकड़-गिट्टी डालने से क्या नक्सलवाद की समस्या खत्म हो जाएगी। हम औरतों के साथ ऐसा अत्याचार क्यों, आप सब देशवासियों से जानना है।

जब मेरे कपड़े उतारे जा रहे थे, उस वक्त ऐसा लग रहा था कोई आये और मुझे बचा ले, पर ऐसा नहीं हुआ। महाभारत में द्रौपदी ने अपने चीर हरण के वक्त कृष्णजी को पुकार कर अपनी लज्जा को बचा ली। मैं किसे पुकारती, मुझे तो कोर्ट-न्यायालय द्वारा इनके हाथो में सौंपा गया था। ये नहीं कहूंगी कि मेरी लज्जा को बचा लो, अब मेरे पास बचा ही क्या है? हां, आप सबसे जानना चाहूंगी कि मुझे ऐसी प्रताड़ना क्यों दी गयी।

पुलिस आफिसर अंकित गर्ग (एसपी) मुझे नंगा करके ये कहता है कि तुम रंडी औरत हो, मादरचोद गोंडइस शरीर का सौदा नक्सली लीडरों से करती हो। वे तुम्हारे घर में रात-दिन आते हैं, हमें सब पता है। तुम एक अच्छी शिक्षिका होने का दावा करती हो, दिल्ली जाकर भी ये सब कर्म करती हो। तुम्हारी औकात ही क्या है, तुम एक मामूली सी औरत जिसका साथ क्‍यों इतने बड़े-बड़े लोग देंगे।

( आखिर पुलिस प्रशासन के आफिसर ने ऐसा क्यों कहा। इतिहास गवाह है कि देश की लड़ाई हो या कोई भी संकट, नारियों का बहुत बड़ा योगदान रहा है। झांसी की रानी लक्ष्मीबाई ने अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी, तो क्या उन्होंने खुद का सौदा किया था। इंदिरा गांधी ने देश की प्रधानमंत्री बनकर देश को चलाया, तो क्या उन्होंने खुद का सौदा किया। आज जो महिलाएं हर कार्य क्षेत्र में आगे होकर कार्य कर रही हैं, क्या वो भी अपना सौदा कर रही हैं। हमारे देशवासी तो एक दूसरे की मदद करते हैं - एकता से जुड़े हैं, फिर हमारी मदद कोई क्यों नहीं कर सकता। आप सभी से इस बात का जवाब जानना चाहती हूं।)

संसार की सृष्टि किसने की? बलशाली, बुद्धिमान योद्धाओं को जन्म किसने दिया है? यदि औरत जाति न होती तो क्या देश की आजादी संभव थी? मैं भी तो एक औरत ही हूं, फिर मेरे साथ ऐसा क्यों किया गया। जवाब दीजिए

मेरी शिक्षा को भी गाली दी गयी। मैंने एक गांधीवादी स्कूल माता रुक्मणि कन्या आश्रम डिमरापाल में शिक्षा प्राप्त की है। मुझे अपनी शिक्षा की ताकत पर पूरा विश्वास है, जिससे नक्सली क्षेत्र हो या कोई और समस्या फिर भी शिक्षा की ताकत से सामना कर सकती हूं। मैंने हमेशा शिक्षा को वर्दी और कलम को हथियार माना है। फिर भी नक्सली समर्थक कहकर मुझे जेल में डाल रखा है। बापूजी के भी तो ये ही दो हथियार थे। आज महात्मा गांधी जीवित होते, तो क्या उन्हें भी नक्सल समर्थक कहकर जेल में डाल दिया जाता। आप सभी से इसका जवाब चाहिए।

ग्रामीण आदिवासियों को ही नक्सल समर्थक कह कर फर्जी केस बनाकर जेलों में क्यों डाला जा रहा हैऔर लोग भी तो नक्सल समर्थक हो सकते हैं? क्या इसलिए क्योंकि ये लोग अशिक्षित हैं, सीधे-सादे जंगलों में झोपड़ियां बनाकर रहते हैं या इनके पास धन नहीं है या फिर अत्याचार सहने की क्षमता है। आखिर क्यों?

हम आदिवासियों को अनेक तरह की यातनाएं देकर, नक्सल समर्थक, फर्जी केस बना कर, एक-दो केसों के लिए भी 5-6 वर्ष से जेलों में रखा जा रहा है। न कोई फैसला, न कोई जमानत, न ही रिहाई। आखिर ऐसा क्यों हो रहा है। क्या हम आदिवासियों के पास सरकार से लड़ने की क्षमता नहीं है या सरकार आदिवासियों के साथ नहीं है। या फिर ये लोग बड़े नेताओं के बेटा-बेटी, रिश्तेदार नहीं हैं इसलिए। कब तक आदिवासियों का शोषण होता रहेगा, आखिर कब तक। मैं आप सभी देशवासियों से पूछ रही हूं, जवाब दीजिए।

जगदलपुर, दंतेवाड़ा जेलों में 16 वर्ष की उम्र में युवक-युवतियों को लाया गया, वो अब लगभग 20-21 वर्ष के हो रहे हैं। फिर भी इन लोगों की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। यदि कुछ वर्ष बाद इनकी सुनवाई भी होती है, तो इनका भविष्य कैसा होगा। हम आदिवासियों के साथ ऐसा जुल्म क्यों? आप सब सामाजिक कार्यकर्ता, बुद्धिजीवी संगठन और देशवासी सोचिएगा।

नक्सलियों ने मेरे पिता के घर को लूट लिया और मेरे पिता के पैर में गोली मार कर उन्हें विकलांग बना दिया। पुलिस मुखबिर के नाम पर उनके साथ ऐसा किया गया। मेरे पिता के गांव बड़े बेडमा से लगभग 20-25 लोगों को नक्सली समर्थक कहकर जेल में डाला गया है, जिसकी सजा नक्सलियों ने मेरे पिता को दी। मुझे आप सबसे जानना है कि इसका जिम्मेदार कौन है? सरकार, पुलिस प्रशासन या मेरे पिता। आज तक मेरे पिता को किसी तरह का कोई सहारा नहीं दिया गया, न ही उनकी मदद की गयी। उल्टा उनकी बेटी को पुलिस प्रशासन अपराधी बनाने की कोशिश कर रही है। नेता होते तो शायद उन्हें मदद मिलती, वे ग्रामीण और एक आदिवासी हैं। फिर सरकार आदिवासियों के लिए क्यों कुछ करेगी?


छत्तीसगढ़ मे नारी प्रताड़ना से जूझती
स्व हस्ताक्षरित
श्रीमती सोनी सोरी

(मोहल्ला और अविनाश भाई को इस के लिए आभार...)

रविवार, 5 फ़रवरी 2012

मुझे माफ़ कर देना....


मैं तब तक शायद
मारा जा चुका होऊंगा....
मेरी लाश को
वो गुमनाम गड्ढों में
गाड़ रहे होंगे
रास्ते के
लैम्प पोस्ट पर
झूल रही होगी
एक संघर्षकारी की लाश
हो रही होंगी
गुमशुदा बाग़ियों की
तलाश
खलिहानों में
लगा दी गई होगी आग
आज़ादी के मुंह से
निकल रहा होगा
झाग
जंगलों में से
मातम की आवाज़
आएगी
शहरों में सन्न झुग्गियों से दूर
कहीं हो रहा होगा
जश्न
रोशन कंगूरों के
अंधेरों में
बलात्कारी हंसेंगे
और
रोएगी शांति
हक की बात पर
नप जाएगी गर्दन
जूतों के तलों के
नीचे
बंदूकों की बट से
तड़तड़ाती गोलियों से
भेद की बोलियों से
कुचली जाएगी
तुम्हारी क्रांति
तब जब
हम सबकी ज़िंदा लाशें
सड़कों पर
घसीटी जा रही होंगी
तुम हमेशा की तरह
यहीं कहीं
बैठी मिलोगी
नाराज़
और
रूठी
कि मैं तुम्हारा
ख्याल नहीं रखता हूं....


..........................06-02-2012.......(1.09 रात)..............................

शुक्रवार, 3 फ़रवरी 2012

आओ-आओ...नाटक देखो...

चाय की दुकान पर बैठा अखबार पर चर्चा कर रहा लोगों का वो झुंड अचानक उठ कर उस शोर की दिशा में चल देता है...शोर में आवाज़ सुनाई दे रही है, कुछ युवाओं की...अरे क्या कह रहे हैं ये...ये चिल्ला रहे हैं...आओ आओ...नाटक देखो...और फिर देखते ही देखते उस मंझोले शहर के नुक्कड़ पर लोगों का हुजूम इकट्ठा हो जाता है। काले कपड़ों में तैयार वो युवा एक सुर में आवाज़ देते हैं और एक गीत के साथ नाटक शुरु होता है...लोग खूब तालियां बजाते हैं...हंसते हैं...फिर अचानक गंभीर हो जाते हैं...फिर तालियां बजाते हैं...और फिर अचानक से उदास हो उठते हैं...नाटक के अंत में एक धवल केश और दाढ़ी वाला शख्स हाथ जोड़कर लोगों के बीच आ खड़ा होता है...उनसे उस नुक्कड़ नाटक के सरोकारों पर बात करता है, उस के मुद्दों पर बात करता है...उसके बाद शुरु होता है चाय का सिलसिला और लगभग हर शख्स चाहता है कि वो इन बच्चों को चाय नाश्ता कराकर ही जाने दे...
नाटक का अगला सीन पर्दा हटने के साथ शुरु होता है...खचाखच भरे सभागार में कुछ युवा प्रोसीनियम पर एक नाटक कर रहे हैं...दर्शकों में चुप्पी है...चुप्पी टूटती है लेकिन तालियों की आवाज़ों के साथ...कोर्ट मार्शल के उस दृश्य में विकॉश राय बने बजरंग बली सिंह कैप्टेन बी डी कपूर बने शिव कपूर से जिरह कर रहे हैं...सन्नाटा तालियों की गूंज में बदल जाता है...लेकिन अगले ही क्षण जब नाटक की शुरुआत से चुप...बिल्कुल निस्तब्ध बैठे वीरेन बसोया अदालत के कटघरे में फूट फूट कर रो रहे होते हैं...तो लोग चुप होते हैं, बिल्कुल निशब्द...स्तब्ध और आक्रोशित...नाटक खत्म होते ही वो सफेद दाढ़ी और बालों वाला शख्स फिर से मंच पर आता है, और उस भद्र भीड़ से भी उस नाटक के सरोकारों पर बात करता है...लेकिन इस बार एक बदलाव और है, इस नाटक में कुछ पात्र वो किशोर-किशोरियां भी निभा रहे हैं, जो उस नुक्कड़ नाटक के दर्शक थे...
ये कमाल पूरी तरह से एक आदमी के नाम लिखा है...अरविंद गौड़, और काले कपड़ों से रंगीन रोशनियों तक ये है उनका रंगमंडल...अस्मिता।
दरअसल ये दो तस्वीरें हैं जो अस्मिता के उन दो चेहरों को जोड़ती हैं, जो देश के उन दो हिस्सों को जोड़ती हैं, जिन्हें हम इंडिया और भारत कहते हैं। नुक्कड़ नाटक के दर्शक और प्रोसीनियम के दर्शक दोनो ही उद्वेलित हो रहे हैं, एक अपने अधिकारों के लिए जाग रहे हैं, तो दूसरे अपने रवैये के लिए शर्मिंदा हो रहे हैं। दरअसल ये ही कमाल है अरविंद गौड़ नाम के उस शख्स का जिसके लिए साधारण बने रहना सबसे असाधारण कमाल है, ये ही सादगी उनकी भी आभा पिछले तीन दशकों से बढ़ा रही है, और इसी आभा से अस्मिता को चमकते 19 साल हो गए हैं।
जी हां...अस्मिता अपने 19 साल पूरे कर रहा है, अस्मिता 20 वें साल में प्रवेश कर रहा है और साथ ही 2 दशक की यात्रा तय कर आज भी जारी है प्रतिरोध के थिएटर का ये सफ़र। एक अभिनव प्रयोग अस्मिता, जो कभी भ्रष्टाचार के खिलाफ अन्ना के साथ रामलीला मैदान में हज़ारों लोग जुटा लाता है तो कभी इरोम शर्मिला के साथ जंतर मंतर पर एक काले कानून के खिलाफ आवाज़ उठाता खड़ा होता है। कभी ये गांधी और अम्बेडकर के बीच के रिश्ते को समझने की कोशिश करता करता, वर्ण व्यवस्था की जड़ पर कुदाल चला देता है तो कभी जिन्नाह की रूह को ज़िंदा कर अपने सिर पर इनाम रखवाता है पर झुकना स्वीकार नहीं करता। अस्मिता के ये 20 साल उतार-चढ़ाव से भरे रहे तकनीक से लेकर अभिनेताओं तक सब कुछ बदला लेकिन कुछ नहीं बदला है तो वो है अरविंद गौड़ की जिजीविषा, प्रतिरोध की शैली और अस्मिता की मुखरता।
अस्मिता की बात करते वक्त तमाम और लोगों की तरह मैं गिनवा सकता हूं कि यहां से कौन कौन से अभिनेता निकल कर बॉलीवुड में नाम बन गए हैं लेकिन थिएटर से इतर भी दरअसल अस्मिता की अपनी एक अलग दुनिया है। ये एक अद्भुत परिवार है, जिसमें न जाने कितने सदस्य हैं। 60 से ज़्यादा वर्तमान अभिनेताओं के साथ (जिनमें से ज़्यादातर युवा हैं और 25 साल से कम उम्र के हैं) ये अलग ही घर है। एक घर जहां लगभग हर चौथे दिन किसी का जन्मदिन होता है और हर जन्मदिन पर एक उत्सव। एक ऐसा परिवार जो एक दूसरे के लिए तो दिन रात खड़ा ही है, दूसरों की मदद के लिए भी सबसे आगे है। रामलीला मैदान में आपको याद होगा अस्मिता के काले कपड़े वाले बच्चों का जज़्बा। न जाने कितनी बार मैंने देखा कि अस्मिता के सदस्य कभी किसी की मदद के लिए रक्तदान करने तो कभी किसी मोहल्ले-बस्ती की सफाई में श्रमदान करने निकल पड़ते हैं। एक एसएमएस एक-एक मोबाइल से न जाने कहां कहां पहुंच जाता है। दिल्ली की ये सड़के उन रातों को जूतों के निशानों को अपने ज़ेहन से मिटा नहीं पाई हैं, जब अरविंद गौड़ को इसी दिल्ली ने नाटक करने से प्रतिबंधित कर दिया था। अरविंद गौड़ उस दौर में हर रात मंडी हाउस से शाहदरा अपने घर तक पैदल जाया करते थे और शायद वो ही न झुकने की ज़िद उनके अंदर आज भी कूट कूट कर भरी है...
अरविंद गौड़...और अस्मिता को न जाने कितने साल से सिर्फ चाय और पारले जी के सहारे दिन रात मेहनत करते देख रहा हूं। हो सकता है कि हम में से कई अस्मिता के कलाकारों के अभिनय पर सवाल उठा दें। उनके कम उम्र और कम अनुभव पर सवाल उठा दें...लेकिन अरविंद गौड़ का थिएटर जो सवाल उठा रहा, क्या उनके जवाब हम देने को तैयार हैं? क्या हम इस योगदान को नकार सकते हैं कि देश और समाज के बारे में शून्य समझ रखने वाली एक पूरी पीढ़ी के न जाने कितने युवाओं के दिमाग अरविंद गौड़ बदल चुके हैं। थिएटर के ज़रिए किस कदर सोशल चेंज हो सकता है, ये अरविंद गौड़ और अस्मिता से हम लम्बे समय तक सीख सकते हैं।
हर बार जब अस्मिता जाता हूं, इन जोशीले नौजवान साथियों से मिलता हूं तो कई बार डर लगता है कि कहीं पूंजीवाद की आंधी और इंडिया की शाइनिंग किसी रोज़ अरविंद गौड़ और अस्मिता को न बदल दे। लेकिन तभी रिहर्सल्स के बाद अरविंद जी को साहित्यकार लक्ष्मण राव जी (लक्ष्मण राव के बिना अस्मिता की कहानी अधूरी है...)की चाय की दुकान पर ज़मीन पर ही बैठा देखता हूं, और हाथ से इशारा कर मुझे बुलाते हैं...तो लगता है कि नहीं उम्मीदें अभी बाकी हैं और उम्मीदों को बाकी रहना ही होगा...दिल्ली के आईटीओ पर हिंदी भवन के बाहर बैठा मैं सोच रहा हूं कि काश देश में ऐसे 10 अस्मिता होते, तो क्या हो सकता था...काश अरविंद जी हमेशा ऐसे ही रहें...और अस्मिता भी...बचा रहे बुर्जुआ से और बाज़ार से...अरविंद जी आप सुन रहे हैं न...
(अस्मिता के 20वें साल में प्रवेश के मौके पर कुछ सशक्त प्रस्तुतियां दिल्ली में हो रही हैं...जिस कड़ी में 4 फरवरी को शाम 7 बजे दिल्ली के श्रीराम सेंटर में कोर्ट मार्शल, 12 फरवरी को मयूर विहार में बुज़ुर्गों के लिए अम्बेडकर और गांधी की विशेष प्रस्तुति दोपहर 3 बजे, श्रीराम सेंटर में ही 18 फरवरी को शाम 7 बजे एक मामूली आदमी, 19 फरवरी को दोपहर 3 बजे श्रीराम सेंटर में मोटेराम का सत्याग्रह और 19 फरवरी को ही शाम 7 बजे अम्बेडकर और गांधी का श्रीम सेंटर में मंचन होगा...देखिए कि आप इनमें से किसमें आकर इस दो दशक के जश्न में शामिल हो सकते हैं...)
(नोट - यह किसी तरह का पी आर का लेख नहीं है...लेखक का अपना मत है...आपके मत भिन्न हो सकते हैं...)

मयंक सक्सेना

काल चक्र

हिन्दी फोनेटिक कुंजी पटल

देवनागरी