सोमवार, 28 जनवरी 2008

भारत ऑस्ट्रेलिया श्रंखला ड्रा


अरे अरे शीर्षक पढ़ कर हैरान होने की ज़रूरत नही है। दरअसल मैं इस वक़्त का इंतज़ार कर रहा था ................ कि सीरीज़ ख़त्म हो और मैं ऐसा कुछ लिखू। हमारे सभी पत्रकार साथी जो कुछ दिन पहले बकनर को बेईमान बता रहे थे अब कह रहे हैं कि ऑस्ट्रेलिया ने सीरीज़ जीत ली है। अब सवाल है कि क्या दूसरे टेस्ट में अम्पयारो की शानदार अम्पायरिंग ना होती तो ऑस्ट्रेलिया वो टेस्ट जीत पाता ?

जवाब तो वही है कि नही ....... तो न्याय के तकाजे पर मैं या तो यह नही मानता कि उस टेस्ट में भारत बेईमानी से हारा या फिर मैं यह नही मानता कि वह मैच अस्तित्व रखता है सो इस लिहाज से यह सीरीज़ दोनो ही हिसाब से ड्रा रही मतलब

१ यह मैच हटा दें तो ३ मैच रह गए ..... एक ड्रा ... एक एक दोनो टीमों ने जीता तो सीरीज़ ड्रा !

२ यह मैच ड्रा करें तो भी सीरीज़ ड्रा !


तो भाई लोगो ये रहा मेरा बदला बकनर, बेन्सन और प्रोक्टर से ........ ( आख़िर ब्लोग भडास निकालने के लिए ही तो है ) अब आप लोग भी चाहे तो कमेंट्स दे कर भडास निकाल लें

जय हिंद


आपका


मयंक सक्सेना

1 टिप्पणी:

  1. hai mayank
    acha prayash hai lage raho.
    ab janna chahoge ki main kon to bandhu mera naam abhishek poddar hai maine 2003-05 main mj kiya hai aur filhaal jharkhand jagran main as a chief sub editor hu. aur time nikalkar www.nainazar.blogspot.com chalata hu.
    thanks

    उत्तर देंहटाएं

काल चक्र

हिन्दी फोनेटिक कुंजी पटल

देवनागरी